Desi Kahani - Best 7 Desi Kahani in Hindi
Desi Kahani - Best 7 Desi Kahani in Hindi

Moral Story In Hindi हम जानते हैं कि कहानियां किसे पसंद नहीं होती बहुत सारे लोग MoraStory in Hindi और बहुत सारे लोग जब भी वे छोटे बच्चे होंगे तो उन्हें अपनी दादी मां के द्वारा सुनाए गए बहुत सारी कहानियां मिलती होगी।

आप शहर से हो या गांव से कहीं पर भी आपको आप हमेशा Moral Story In Hindi सुनना पसंद करते होंगे मुझे पता है कि जब भी बच्चे को सोने के लिए दादी मां या उसकी मां के द्वारा कहानियां सुनाई जाती है जिससे बच्चे कहानी सुनते सुनते सो जाते हैं।

Moral Story In Hindi
Story in Hindi- Best 7 Moral Stories in Hindi

हमें  Story In Hindi में बहुत राखी शिक्षा और बहुत सारे डरावनी कहानियां भी देखने को मिलते हैं इसी सभी चीजों को ध्यान में रखते हुए। जिसे पढ़ कर आप साहसी और अच्छा व्यक्ति जरूर बनेंगे।

Ki Kahani

1. मछली और बन्दर की कहानी (Moral Story In Hindi of Money and Fish)

एक बार की बात है एक बार कुछ  नाविक अपने समुंद्री जहाज पर बैठ कर के समुंद्र की यात्रा पर निकले हुए थे। उनमें से एक नाविक के पास पालतू बंदर था। उसने उस बंदर को भी अपने जहाज पर रख लिया था। और यात्रा शुरू हुई।

जहाज कुछ दिनों की यात्रा के बाद समुद्र के बीचो-बीच पहुंच गया। और अपने उचित स्थान तक पहुंचने के लिए नाविकों को अभी कुछ और दिन की यात्रा करनी जरूरी थी। और साथ ही मौसम इतने दिनों के लिए नाविकों लिए बहुत ही अच्छा था।

लेकिन एक पल ऐसा आया कि समुंद्र में बहुत ही तेज समुंद्री तूफान आए। और जहाज पूरी तरह टूट गया। नाविकों ने अपने जहाज को बचाने की बहुत प्रयास किए। लेकिन अंततः समय के अंत में जहाज पलट गई। सभी नाभिक अपनी – अपनी जान बचाने के लिए समुंद्र में तैरने लगे।

साथ ही बंदर भी पानी में जा गिरा था” और उसे तैरना नहीं आता था। वह बंदर डूबने लगा और उसे अपनी मौत सामने दिखाई दे रही थी। और वह बंदर अपनी जान बचाने के लिए चीख-पुकार मचाने लगा।

तभी उसी समय वहां से एक डॉल्फिन गुजर रही थी” और वह बंदर को डूबते हुए देखा। तब डॉल्फिन बंदर के पास गई और उसे अपनी पीठ पर बैठा लिया। और फिर वह बंदर को लेकर एक द्वीप की तरफ तैरने लगी।

द्वीप पर पहुंचकर डॉल्फिन ने बंदर को अपने पीठ से उतारा। और बंदर की जान में जान आई। और डॉल्फिन ने बंदर से पूछा”क्या तुम इस स्थान को जानते हो”

“हां बिल्कुल , यहां का राजा तो मेरा एक बहुत ही अच्छा मित्र है। और तुम जानती हो कि मैं भी एक राजकुमार हूं। बंदर की आदत बढ़ा – चढ़ाकर बात करने की थी। बंदर डॉल्फिन के सामने बड़ी-बड़ी बातें करने लगा। और डॉल्फिन समझ गई कि बंदर अपनी शान बघारने के लिए बड़ी-बड़ी झूठ बोल रहा है।

डॉल्फिन जानती थी कि यह एक निर्जन  द्वीप है और यहां पर कोई नहीं रहता है। फिर डॉल्फिन बंदर की बात की जवाब देते हुए बोली,”ओह”, तो तुम एक राजकुमार हो बहुत अच्छी बात है।

डॉल्फिन ने बोली”,— क्या तुम्हें पता है कि तुम बहुत ही जल्द इस द्वीप का राजा बनने वाले हो। बंदर ने बड़ी आश्चर्य से पूछा”, राजा और मैं”, इसलिए कि तुम किस द्वीप पर एकलवाते प्राणी हो ,यहां पर कोई भी जिओ नहीं रहते हैं। इसलिए बड़े आराम से इस द्वीप का राजा बन सकते हो।

डॉल्फिन बोली ,”– अब मैं जा रही हूं और अब तुम अपनी पूरी राज – पाट समारोह को देखो। इतना कहकर डॉल्फिन तैरते हुए बंदर से दूर जाने लगी। और बंदर पुकारता रहा लेकिन डॉल्फिन उसे उसकी झूठ और शेखी से नाराज डॉल्फिन बंदर को वहीं छोड़ कर के चली गई।

इस Story In Hindi से हमें यह शिक्षा मिलती है कि व्यर्थ की शेखी बघारना मौत को बुलावा देने के बराबर होती है इसलिए हमेशा हमें सोच समझकर और कम बातें करनी चाहिए।

Kahani Ghar Ghar ki(Moral Story In Hindi)

कंजूस व्यक्ति और उसका सोना (Moral Story In Hindi of kanjus Man)

पंडित टोला नाम का एक गांव था। जिसमें एक अमीर जमीदार रहता था। वह जितना आमिर था । उतना ही कंजूस भी था। और वह अपने धन को सुरक्षित रखने के लिए एक अजीब ही तरीका निकाला था।

वह जमीदार व्यक्ति अपने धन से सोना खरीदा था और उस सोने को पिघलाकर गोल कर देता था फिर उसे अपने खेत के किसी पेड़ के नीचे गड्ढा खोदकर उसमें डाल देता था। और वह जमीदार व्यक्ति रोज अपने खेत जाता था और गड्ढे को खुद करके सोनो की गोलो निकालने के लिए खोदता था। और फिर से उसे गड्ढा में डाल कर के बंद कर देता था यही उसकी दिनचर्या थी।

वह जमीदार व्यक्ति इसी तरह निश्चित करता था कि मेरा सोना पूरी तरह सुरक्षित है। एक समय की बात है कंजूस आदमी को  गड्ढा से सोने खोद कर और उसे गिनते हुए एक चोर ने देख लिया था। और वह चोर छुप कर उस कंजूस आदमी के जाने का इंतजार करने लगा।

जैसे ही वाह कंजूस जमीदार आदमी अपने खेत से गया। तभी चोर वहां पर तुरंत उस गड्ढे के पास गया और पूरे सोने का गोला निकाल कर लेकर भाग गया। अगले दिन जब कंजूस आदमी खेत में गड्ढे के पास पहुंचा। तू उसके सभी सोने के गोले नहीं मिले और वह वहीं पर रोना – पीने लगा।

वह कंजूस आदमी बहुत जोर से रो रहा था ।तभी वहां से एक राजगीर के कानों में उसकी आवाज पड़ी। और वह वहां पर रुक गया। और फिर राजगीर ने कंजूस आदमी से रोने का कारण पूछा”, तू कंजूस आदमी बोला”, मैं लूट गया। मैं बर्बाद हो गया। कोई मेरा सारा सोना लेकर भाग गया। और अब मैं क्या करूं।””सोना “किसने चुराया”, कब चुराया “और कैसे चुराए”, यह सब जानकर वह राजगीर जानकर हैरानी हो गया।

Kahani Movie(Moral Story In Hindi)

इस Story In Hindi कहानी में एक राजा और एक मंत्री बहुत ही अच्छे मित्र थे । और भी कहीं पर भी जाते थे, तो हमेशा साथ जाते थे ,उन्हीं तरह उनके बेटे भी एक साथ बड़े हुए ,”और बहुत करीब एक दूसरे के दोस्त बन गए । एक दिन दोनों शिकार पर अचानक गए हुए थे , रास्ते में उन्हें बहुत तेज प्यास लगी और मिथक भी चुके थे।

इसलिए उन्होंने यह फैसला किया कि हम यहीं पर थोड़ी देर आराम करेंगे फिर मंत्री का बेटा पानी की तलाश में गहरे जंगल की तरफ चला गया। तभी उसने झरने के पास एक सुंदर परी को देखा लेकिन समस्या यह था कि उस तरीके पास एक शेर बैठा था।

उसने धीरे से झील से अपनी आवश्यकता के अनुसार पानी निकाला और अपने दोस्त के पास वापस लौट आया।

और झील के पास वह जो भी घटना हुई उसके साथ यह सभी राजा के बेटे को सुनाया और फिर उसे झरने के पास ले गया तभी वहां पर देखा कि सिर्फ परी की गोद में सो रहा है ।

तब उन्होंने परी को अपने मोहल्ले जाने का फैसला किया जबकि मंत्री का बेटा शेर के साथ ही रहा थोड़ी देर बाद जब शेर उठा तो लड़के ने कहा उसका दोस्त परी को महल में ले गया है ।

शेर फिर हंसा और उससे कहा अगर राजा का बेटा सच्चा दोस्त होता तो वह उसे सेब के साथ कभी अकेला नहीं छोड़ता फिर उसने तीन महान मित्रों जैसे कि मान लो ,,एक राजा ,,एक पुजारी और,,

एक भवन निर्माता की कहानी सुनाना शुरू किया । जिन्होंने दोस्ती का सही अर्थ दिखाया और अंत तक हमेशा एक दूसरे के साथ रहे।

इस Moral Story In Hindi से कहानी एक बहुत ही बड़ा सबक देती है। हमें अपने दोस्तों का चयन हमेशा ध्यान में रखकर के करना चाहिए।

ग्रहण का रहस्य(Moral Story In Hindi)

कुछ समय पहले की बात है । काफी जन समूह में ताना नाम की एक खूबसूरत लड़की थी एक बार एक बाघ ने उसे पकड़ लिया और अपनी गुफा में ले गया ।  जब भूखे बाप ने लड़की को देखा

तो उसने महसूस किया कि छोटी लड़की उसकी बुक को संतुष्ट करने के लिए प्रूफ छोटी है । इसलिए उसने उसे बड़े होने तक कुछ समय के लिए रखने का फैसला किया अपने पास ही।

बाद उसे बहुत कुछ खिलाता था । और स्थिति से अनजान कानन ने धीरे –धीरे गुफा में घर जैसा महसूस करने लगी । और साथी गुफा में एक चूहा भी रहता था चूहे ने अगले दिन बाप को कानून को खाने की बात करते हुए सुना हुआ था। 

और चूहा बड़ी होशियारी से कानन के पास गिरा । और उसे सारी बातें बता दी चिंतित कानन चूहे से उसकी मदद करने को कहा। उसने उस गुफा से बाहर जाने और एक जादुई मेंढक से मिलने का सुझाव दिया। कहानी आगे बढ़ती जा रही है , मेंढ़क कानन की मदद करने को तैयार हो जाता है। पर बदले में कानून को अपना सेवक बना लेता है मेंढक  के पास एक जादुई खाल थी।

चूहे ने एक बार फिर कारण को मेंढ़क से बचाया और उसे एक जादुई पेड़ के पास ले गया । जिसकी संघ खाए नीले आकाश तक पहुंचती थी । वापस बाघ ने देखा कि कानन गायब है।

तूफान बहुत ज्यादा क्रोधित हुआ आकाश में एक संगी नाम की एक देवी कानून को आश्रय दिया। दूसरी ओर का संगीत को मेडक की जादुई खाल के बारे में पता चला । और उसे जला दिया । जादूगर मेंढक का संगीत से लड़ने के लिए आकाश में आया।

दोनों में भयंकर युद्ध हुआ । और अंत में सब धरती वासियों ने इतने जोर से नगाड़े और ढोल बजाए की मैडम डर कर भाग गया । और का संगीत जीत गई इसलिए आज भी उस प्रजाति के लोग सूर्य ग्रहण पर ढोल नगाड़े बजाकर सूर्य की मदद करते हैं।

Panchatantra ki Kahani

Kahani Hindi(Moral Story in hindi )

व्यापारी और लुटेरे

एक समय की बात है,” एक बार एक गांव में 10 व्यवसाई रहते थे” जो सभी जीविका चलाने के लिए कपड़े बेचने का काम करते थे । एक दिन बहुत सारा पैसा कमाने के बाद वे घर लौट रहे थे । लेकिन जंगल में चोरों ने एक समूह ने उन पर हमला कर दिया चोरी के पास बहुत ही भयंकर भयंकर हत्यारे थी लेकिन व्यापारियों के पास कपड़े के अलावा कुछ नहीं था चोरों ने उनका सारा सामान छीन लिया और व्यवसायियों के पास पहुंचने के लिए केवल 1 जोड़ी कपड़े बचे थे।

चोर बस इतना ही करके नहीं माने उन्होंने सभी व्यापारियों को मस्ती के लिए नाचने और गाने के लिए भी कहा अचानक व्यापारियों के एक नेता को एक विचार आया उन्होंने अपनी गुप्त भाषा के जरिए खुद को बचाने की योजना बनाई और फिर व्यापारियों ने चोरों को मूर्ख बना अपना सारा सामान भी वापस ले लिया और अच्छा सबक सिखाया

Hamari Adhuri Kahani Full Movie

Munshi Premchand ki Kahani

Dharti Mata ki Kahani

Pari ki Kahani

Kahani Lekhan

भिखारी और लड्डू

एक बार मूर्ति और उसकी पत्नी भाभी का एक साथ रहते थे मूर्ति को बीच में जो भी चावल मिलता वह दोनों के लिए दिन में दो बार खाने के लिए पर्याप्त हो जाता था एक बार मूर्ति के दोस्त ने उन्हें रात के खाने के लिए आमंत्रित किया और उन्हें चावल से बने लड्डू भेंट भी किए भाभी को लड्डू इतनी पसंद आए कि उसने अगले दिन वही लड्डू घर में बनाए लेकिन वह कुल 5 लड्डू थे।

दोनों में से कोई आखरी और पांचवा लड्डू बांटना नहीं चाहता था इसलिए उन्होंने फैसला किया कि वह आंखें बंद करके लेट जाएंगे और जो कोई अपनी आंख वाले खोलेगा और पहले बात करेगा उसे दो लड्डू मिलेंगे और दूसरे को 3:00 3 दिन बीत गए वह नहीं उठे ग्रामीण परेशान होने लगे जब ग्रामीणों ने अपना घर खोला और उन्हें लेटा हुआ देखा तो उन्हें लगा कि आप दोनों नहीं रहे

भाभी और मूर्ति को उनके अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया जो मूर्ति अचानक उठे और चिल्लाई मैं दो लड्डू से खुश हूं बाद में उन्होंने पूरी ग्रामीण को बताएं तभी मूर्ति को गांव में लड्डू भिखारी का नाम से पुकारा जाने लगा

Bhoot Wali Kahani (Story In Hindi)

kahani suno 2.0 mp3 download

Kahani Suno Lyrics

चतुर सियार  (Story In Hindi)

एक बार की बात है एक बार पिजड़े में कैद हुआ था उसने खुद को बाहर करने की कोशिश की लेकिन हर बार बार नाकाम होता जा रहा था उसने देखा कि एक ब्राह्मण रास्ता पार कर रहा है बाद में ब्राह्मण से उसकी मदद करने के लिए कहा लेकिन आदमी ने बाग के खाने के 10 मदद करने से मना कर दिया बाद मदद करने के लिए बहुत रोया और उसे ना खाने का वादा किया अंत में ब्राह्मण ने उसे भी जोड़े से मुक्त करने का फैसला लिया।

जैसे ही उसने पिजड़ा खोया बाज आदमी को झपट पड़ा भूखे बाद में ब्राह्मण को खाने से पहले तीन सवाल पूछने का मौका दिया ब्राह्मण ने एक सवाल पीपल के पेड़ से एक भैंस से और आखरी सवाल सड़क से पूछा सभी उत्तर से निराश होकर वह वापस जा रहा था तभी उसकी मुलाकात एक सियार से हो जाती है आप जानिए कैसे सियार ने ब्राह्मण को भूखे पार्क से बचाने के लिए वह के सामने गूंगे और मूर्खों वाला काम किया

Kahani Suno MP3 Download

Moral Story In  Hindi app

Moral Story In Hindi

Latest Story In Hindi

Story In Hindi Net

Moral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In HindiMoral Story In Hindi

Related Post

Leave a Reply